MixItMusic
» » Kaloo Quawal - इक जमाना होगया इस यार को रुठे हुये / प्यार के काबिल ए जालिम तेरी तस्वीर है

Kaloo Quawal - इक जमाना होगया इस यार को रुठे हुये / प्यार के काबिल ए जालिम तेरी तस्वीर है Album

Kaloo Quawal - इक जमाना होगया इस यार को रुठे हुये / प्यार के काबिल ए जालिम तेरी तस्वीर है Album
Performer:
Kaloo Quawal
Album:
इक जमाना होगया इस यार को रुठे हुये / प्यार के काबिल ए जालिम तेरी तस्वीर है
Style:
Hindustani, Qawwali
Released:
1933
Country:
India
Label:
His Master's Voice
Catalog:
N. 6222
FLAC size:
1508 mb
MP3 size:
2766 mb
WMA size:
2769 mb


Tracklist


1प्यार के काबिल ए जालिम तेरी तस्वीर है
2इक जमाना होगया इस यार को रुठे हुये


Notes


Urdu song
Text on labels in Roman, Urdu & Devanagari

A - ik jamana ho gaya is yaar ko ruthe hue
B - pyar ke kabil ae jalim teri tasveer hai


Barcodes


  • Matrix / Runout (Side A): OC. 5389
  • Matrix / Runout (Side B): OC. 5391


Companies


  • Manufactured By – The Gramophone Co. Ltd., Dum Dum


Album


आप बरउजर क परन ससकरण क उपयग कर रह ह. MSN क सरवशरषठ अनभव परपत करन क लए, कपय कस समरथत ससकरण क उपयग कर. Rajasthan Political Crisis: Gahlot कबनट क बठक ख़तम, मतरय क चरज दन पर फसल पर चरच. Kanpur Encounter: इस कड क बद कनपर पलस पर फर खड हए सवल Mobile Tak 2:32. GB Road क कठ पर Corona क मर, सरकर स मदद क आस म बठ ह Sex Workers Dilli Tak. Mobile Tak 2:06. Sunita Yadav : मर सनयर अफसर न ह मर सथ नह दय. MovieAlbum: तर घर क समन 1963 Music By: एस. बरमन Lyrics By: हसरत जयपर Performed By: म. रफ़, लत मगशकर. दख रठ न कर, बत नजर क सन हम न बलग कभ, तम सतय न कर. चहर त लल हआ, कय कय हल हआ इस अद पर तर, म त पगल हआ तम बगडन ज लग, और भ हस लग हम न बलग कभ, तम सतय न कर. MovieAlbum: एक दज क लए 1981 Music By: लकषमकत पयरलल Lyrics By: आनद बकष Performed By: अनप जलट, लत मगशकर. सलह बरस क बल उमर क सलम पयर तर पहल नज़र क सलम. दनय म सब स पहल जसन य दल दय दनय क सबस पहल दलबर क सलम दल स नकलन वल रसत क शकरय दल तक पहचन वल डगर क सलम. अपन जदग स बढकर पयर कय ह तमक. 1 vote. Rate Rate Thanks 2. रमचदर शकल क जवन परचय दत हए उनक सहतयक यगदन पर परकश डलए ममत न मगल क कय aashrya diya Please help in 9 cbse Yeah bro I have already subscribed before many years. Ek talab hai usme bich me 16 or charo cono pe 16 aadmi hai. Ek sher hai jo aadmi ki ginti krta hai ek kone se dusre kone ki 161616 48Sher ka khna ha. i ki agar ek bhi aadmi bdha to sbko kha jayega. Tbhi 8 aadmi or aate hai ab aap btao ki unko kaise adjust kroge ki sher ko 48 hi dikhe. Новинка 2:55. Sleepover Фильмы. 2004 Юмор. LIVE - ब नयज बतमपतर दनक 18 - 07 - 2020 channel B 2 540 зрителей. पयर क कहवत. Kamal Sahate क सगरह. Wisdom Quotes कटशन पयर सबधत उदधरण. Feelings दल. दल क चट न कभ चन स रहन न दय जब चल सरद हव मन तझ यद कय इस क रन नह कय तमन कय दल बरबद मर इस क ग़म ह क, बहत दर म बरबद कय हमक कसक गम न मर, य कहन फर सह कसन तड़ दल हमर, य कहन फर सह दल क लटन क सबब पछ न सबक. समन नम आएग तमहर, य कहन फर सह हमक कसक गम न. नफरत क तर ख कर, दसत क शहर म हमन कस कस क पकर, य कहन फर सह हमक कसक गम न. कय बतए पयर क बज, वफ़ क रह म कन जत. कटशन पयर सबधत उदधरण. Flag for Inappropriate Content. saveSave कह क रय, चह ज हय For Later. 22 upvotes, Mark this document as useful. 00 downvotes, Mark this document as not useful. दल क अरम आसओ म बह गए. Sarfaroshi Ki Tamanna Ab Hamare Dil Mein Hai सरफरश क तमनन अब हमर दल म ह. तर पयर क आसर चहत ह, वफ़ कर रह ह. Uploaded by. Devendra Kumar Choudhary. उततर- अनमनत बजट क गहरई स अधययन करन क बद हम आशरम क उददशय क भलभत समझ सकत ह सववलबन क भवन क वकस करन, अतथ सतकर करन, जररतमद क आवशयक सवधए परदन करन, बकर लग क आजवक परदन करन, शरम क महततव समझन, कटर उदयग क बढव दन, चरख खद आद स सवदश आदलन क बढव दन सहयग क भवन क वकस इस आशरम क करय परणल क मखय आधर आतमनरभरत ह भष क बत. परशन 1. अनमनत शबद अनमन म इत परतयय जडकर बन ह. इत परतयय क भत इक परतयय स भ शबद बनत ह और तब शबद क पहल अकषर म भ परवरतन ह जत ह जस सपतह क इक सपतहक नच इक परतयय स बनए गए शबद दए गए ह इनम मल शबद पहचनए और दखए क कय परवरतन ह रह ह. Poem by Ahatisham Alam. जब तर दद ह दनय क य जलव कय ह मझक मलम नह क मझक हआ कय ह ऐ मर पयर म बछड़ त बछड़ कर मर जऊग अपन हर सस क तर नम म कर जऊग कस हलत ह दल म य तमश कय ह मझक मलम नह क मझक हआ कय ह. एक आलम तर आलम पर जब हग नसर तब य दनय भ तमशई बनग मर यर कछ अलग तर और मर कहन हग नकम इशक़ क ज़बन प रवन हग कई टट हआ दल य सचग क मर ह हल लख ह मझक मलम नह क मझक हआ कय ह Ahatisham Alam. Topics of this poem: love. महबब क जदई म परम क ज कफ़यत हत ह उस आपन बड़ खबसरत स इस नज़म म क़द कय ह. बहत बहत धनयवद, अहतशम आलम ज. ह नह थ पत क तझ मन लग खद क तर गललय म इस कदर आऊग हर पहर. सन मर हमसफ़र कय तझ इतन स भ खबर क तर सस चलत जधर रहग बस वह उमर भर रहग बस वह उमर भर हय. ज़लम तर इशक च म. Explain Request. Lyrics taken from badrinath ki dulhaniya-sun mere . To explain lyrics, select line or word and click Explain

Similar to Kaloo Quawal - इक जमाना होगया इस यार को रुठे हुये / प्यार के काबिल ए जालिम तेरी तस्वीर है